दर्शन दो घनश्याम नाथ मोरी अँखियाँ प्यासी रे